नवीनतम समाचार
दिनांक 4 अप्रैल 2019 सांय 4:15 से 5:30 तक आठवीं अर्धवार्षिक बैठक स्थान: होटल चंदीराम, छावनी चौराहा | दिनांक 4 अप्रैल 2019 सांय 5:30 से 8:00 तक "हास्य कवि सम्मेलन" स्थान: होटल चांदीराम छावनी चौराया | दिनांक 19 मार्च 2019 को नराकास(बैंक) कोटा के तत्वावधान में भारतीय स्टेट बैंक द्वारा कार्यशाला, राजभाषा ज्ञान प्रतियोगिता एवं उप-समिति की बैठक का आयोजन | नराकास के तत्वाधान में सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया द्वारा हिंदी निबंध प्रतियोगिता का आयोजन | चम्बल भारती के पांचवें अंक हेतु ऑनलाइन रचनाएँ प्रेषित करें | नराकास कोटा(बैंक) की सांतवीं बैठक दिनांक 06 सितम्बर 2018 का कार्यवृत्त |

परिचय

हमारा संक्षिप्त परिचय

गठन

भारत सरकार, गृह मंत्रालय, राजभाषा विभाग में देश के प्रमुख शहरों में कार्यरत केन्द्र सरकार के कार्यालयों तथा बैंकों में राजभाषा हिन्दी के प्रभावी कार्यान्वयन के लिए नगर राजभाषा कार्यान्वयन समितियों का गठन किया । सन् 1985 में गृह मंत्रालय, राजभाषा विभाग की सहमति से भारतीय रिज़र्व बैंक, बैंकिंग परिचालन और विकास विभाग की राजभाषा कार्यान्वयन समिति की 19 जनवरी, 1985 को हुई 24वीं बैठक में देश के 10 बड़े शहरों में समितियाँ गठित करने का निर्णय लिया गया तथा इसके संयोजन की जिम्मेदारी अलग-अलग बैंकों को दी गई।

कोटा शहर के स्तर पर गठित बैंको के लिए गठित नगर राजभाषा कार्यान्वयन समिति का कार्यभार भारतीय स्टेट बैंक को सौंपा गया समिति का गठन वर्ष 2015 में इस पहली बैठक में यह निर्णय लिया गया था कि नगर के सभी बैंकों में राजभाषा नीति के अंतर्गत हिन्दी का प्रयोग बढ़ाने के लिए सामूहिक प्रयास किए जाएंगे।

समिति के कार्यदायित्व
  • भारत सरकार, गृह मंत्रालय, राजभाषा विभाग, वित्त मंत्रालय, बैंकिंग प्रभाग तथा भारतीय रिज़र्व बैंक आदि से राजभाषा के कार्यान्वयन के संबंध में प्राप्त निर्देशों की सूचनाएँ अनुपालन हेतु सदस्य बैंकों को देना तथा इन्हें पूर्ण रूप से कार्यान्वित करने हेतु अनुवर्ती कार्रवाई करना ।
  • वर्ष में कम से कम दो बैठकें आयोजित करके, सदस्य बैंकों के नगर में स्थित शाखाओं व प्रशासनिक कार्यालयों में राजभाषा के कार्यान्वयन की स्थिति की समीक्षा करना तथा बैठक में लिए गए निर्णयों का कार्यान्वयन सुनिश्चित करना।
  • सदस्य बैंको से छ: माही प्रगति रिपोर्ट प्राप्त करके समीक्षा करना।
  • सदस्य बैंकों से प्राप्त सुझावों को आवश्यक कार्रवाई हेतु संबंधित प्राधिकारियों के पास भेजना।
  • नगर की बैंकों में राजभाषा के प्रयोग के अनुकूल वातावरण तैयार करने के लिए विचारगोष्ठियों, कार्यशालाओं तथा विभिन्न प्रतियोगिताओं का आयोजन करना।
सदस्य बैंकों एवं वित्तीय संस्थाओं से अपेक्षाएँ
  • स्थानीय कार्यपालक को अपने राजभाषा अधिकारी के साथ समिति की बैठकों में अवश्य भाग लेना चाहिए।
  • समिति की बैठकों में लिए गए निर्णयों को निर्धारित समय में कार्यान्वित करना चाहिए।
  • शहर में स्थित अपनी शाखाओं व कार्यालयों में हो रहे हिन्दी अनुप्रयोग की तिमाही प्रगति रिपोर्ट समिति के सचिवालय को नियमित रूप से यथासमय भेजी जानी चाहिए ।
  • समिति के तत्वावधान में आयोजित विचारगोष्टियों, कार्यशालाओं, प्रतियोगिताओं व अन्य कार्यक्रमों में भाग लेने हेतु अपने स्टाफ सदस्यों को नामित करना चाहिए।
  • समिति द्वारा सौंपे गए कार्यों का कार्यान्वयन सुनिश्चित करना चाहिए।